Subscribe to Buxar upto Date News:
  • Breaking News

    ब्राम्हण सभा ने किया चौबे का बहिष्कार, कहा- शाहाबाद की सभी सीट जाएंगी महागठबंधन को

    बक्सर अप टू डेट न्यूज़ :-राजग गठबंधन ने अपने प्रत्याशियों के नामो की घोषणा करते ही भारी उत्साह के साथ एक निराशाजनक खबरे भी आ रही है तथा इससे  वोट ध्रवीकरण का भी संकेत मिलने लगा है।केंद्रीय मंत्री व बक्सर से राजग उम्मीदवार अश्विनी चौबे को लेकर उनके स्वजातीय वर्गो ने ही विरोध के बगावती स्वर बुलंद करना अब शुरू कर दिया और कहा गया  कि चौबे को पुनः बक्सर से उम्मीदवार बनाकर राजग ने बक्सर के अलावा शाहाबाद के तीनों सीट महागठबंधन के महाविजय की संकेत देकर उसके झोली में डाल दिया है।
    बक्सर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत दिनारा विधानसभा के सूर्यपुरा में ब्राम्हण सभा के प्रदेश अध्यक्ष सुदामा पांडेय ने रविवार को मीडिया से मुखातिब होते हुए भाजपा नेतृत्व के प्रति अपना तल्ख तेवर दिखाया और कहा कि बक्सर लोकसभा से अश्विनी कुमार चौबे को टिकट देकर शाहाबाद के भाजपा के तीनों  सीट जैसे- आरा,सासाराम,बक्सर आदि को महागठबंधन की झोली में डाल दी। पांडेय ने कहा कि ब्राह्मण अश्विनी कुमार चौबे को वोट नही करेंगे। बक्सर क्षेत्र के ब्राम्हण ने पहले ही स्पस्ट कर दी थी कि मोदी से परहेज नही अश्विनी का खैर नही। लेकिन पार्टी नेतृत्व ने चौबे को टिकट देकर यह सावित कर दिया कि भाजपा नेतृत्व को कार्यकर्ताओ से कोई लेना देना नही है। पार्टी ने 6 माह पहले सर्वे कराई जिसमे चौबे की हार सुनिश्चित होने की मतदाताओं ने फीड बैक दिया था। लेकिन शीर्ष नेतृत्व केवल दिखवा किया और हारने वाले प्रत्याशी की नाम  घोषित कर दिए। इसका खमियाजा भाजपा को भुगतान पड़ेगा। सुदामा पांडेय ने आगे बताया कि महागठबंधन के उम्मीदवार राजपूत समाज से है और ओ अपने समाज के उम्मीदवार को वोट करेंगे। अश्विनी कुमार चौबे से राजपूत समाज की नाराजगी है,जो इनको पिछले चुनाव में मतदान किया था,ओ इस बार अश्विनी कुमार चौबे को वोट नही देंगे। इसी तरह ब्राम्हण जाती के मतदाता भी लगभग 1 माह पहले से चौबे जी को क्षेत्र से गुम हो जाने से संबंधित हैंड विल,पर्चा, आदि लोगो मे बांट अपना स्पस्ट निर्णय पार्टी नेतृत्व को बता दी, थी कि अश्विनी कुमार चौबे को  क्षेत्र स्वीकार नहीं करेगा। दावथ के प्रेम मुखिया ने बताया कि बक्सर से जिताऊ उम्मीदवार घोषित करना चाहिए था, जो नही हुआ। भाजपा के उम्मीदवार अश्विनी कुमार चौबे की जमानत जप्त हो जाएगी। इसका असर विधानसभा चुनाव में भी पड़ेंगे। शाहाबाद के ब्राह्मण सभा की बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि ब्राह्मण समाज अश्विनी कुमार चौबे को वोट नही करेंगे। अभय पांडेय ने कहा कि हार-जीत पार्टी की नही होती,कार्यकर्ता की होती है,जो अपने दल के समर्थित उम्मीदवार के प्रति भावनात्मक रूप से जुड़ा होता है, उस स्थिति में पार्टी कार्यकर्ताओं को नजरअंदाज कर हारने वाले उम्मीदवारों को मैदान में खड़ा कर देती है। चुनाव के पहले तक गहन सर्वे आदि की प्रक्रिया से आम मतदाताओं से प्रतिक्रिया लेती है, बाद में उसी को टिकट दे देती है, जो समीक्षा में हारने वाले उम्मीदवारों के लिस्ट में होते है। पार्टी के गलत निर्णय से राजग को बक्सर के विरूद्ध आरा,सासाराम,को भी नुकसान पहुँचेगा। पांडेय ने पार्टी के शीर्ष नेताओं से बक्सर सीट पर पुनः विचार कर जिताऊ उम्मीदवार को भेजने तथा अश्विनी कुमार चौबे को हटाने की जोरदार अपील की है।
    https://drive.google.com/file/d/1R8rvtPijg0C4duKxbK6hUoCoqtU3ZuQ5/view