Subscribe to Buxar upto Date News:
  • Breaking News

    सड़क किनारे लगी मूँजो से अधिक हो रही दुर्घटना

    बक्सर अप टू डेट न्यूज़ :- जिले में कुछ ऐसे भी इलाके है जहाँ से प्रतिदिन जिला पुलिस प्रशासन की गाड़ियाँ दिन-रात गुजरती है, लेकिन सड़क किनारे खड़े मूँजो पर किसी की नजर नही पड़ती। इन्ही मुँजो के वजह से कितनी लोग दुर्घटना के शिकार हो चुके है। हम बात कर रहे है जिले के सिमरी प्रखंड क्षेत्र की। जहाँ की सड़के मुँजो की वजह से सकरी हो चुकी है।
    आपको बता दे की सिमरी से बक्सर आने जाने के लिए दो सड़क है जो की मिशन मोड़ से रास्ता दो भागो में बट जाता है एक रास्ता नगपुरा,ड़ेसरडीह,उमरपुर होकर बक्सर जाता है तो वही दूसरा मिशन मोड़ से बलिहार,दुल्लहपुर,सोनवर्षा और मंझरिया होकर शहर को जाता है।

    इन दोनो रूटों में सड़क किनारे लम्बे लम्बे मुँजे लगे हुए है जिससे हर वक्त वाहनों की दुर्घटना होने की खतरा बना रहता है,मूँज एक प्रकार की जंगली घासो के प्रजातियां है जो लम्बे लम्बे होते है और इनकी उपयोग कच्चे घरो को बनाने में होता है। सड़क किनारे मुँजो के होने से कई बार सामने से आते हुई गाड़ियां दिखाई नही देती और दुर्घटना घट जाता है।
    चुकी गंगा तट नजदीक है इसलिए इधर नीलगायों और जंगली सियार अधिक है और अधिकतर नीलगायें सड़क किनारे लगे घनी मुँजो में ही छिपे रहती है और अचानक से गाडियो की आवाज पाकर सड़क पर निकल कर भागने लगते है जिससे चालक अपना सन्तुलन खो बैठता है और वाहन छतिग्रस्त हो जाती है। और ऐसा नही है की मूँज वाली समस्या केवल वाहनों को ही है,घनी मूँज होने से अंधेरा होने के बाद सड़क पर पैदल यात्रियों का चलना कम जोखिम भरा नही है। जंगली जीवो से तो खतरा है ही अपितु लुटेरो और बदमाशो का भी डर बना रहता है जो की अपनी घटना को अंजाम देकर धीरे से इन्ही घने मुँजो में छिप जाते है।
    ऐसी विषम समस्या को जानते और समझते हुए भी पुलिस-प्रशासन इस मामले में सुस्त बैठी है, बक्सर पुलिस-प्रशासन को दुर्घटना और अपराध को कम करने के लिए सड़क किनारे जितने भी मुँज लगे हुए है उनको जड़ से नष्ट करवा देना चाहिए। इस विषय पर प्रशासन को जल्द से जल्द संज्ञान लेने की जरूरत है।
    -गुलशन सिंह की रिपोर्ट
    https://drive.google.com/file/d/1R8rvtPijg0C4duKxbK6hUoCoqtU3ZuQ5/view